नवममुखी रुद्राक्ष (9 Mukhi Rudraksha)

9 मुखी अथवा नवममुखी रुद्राक्ष को नवदुर्गा का स्वरुप माना जाता है। ऐसी माना जाता है कि यह दिव्य रुद्राक्ष पहनने से नवदुर्गा की शक्तियाँ मनुष्य की रक्षा करती है। नौमुखी रुद्राक्ष धारण करने से अनेक प्रकार के लाभ प्राप्त करके जीवन को सुखमय बनाया जा सकता है। नवममुखी रुद्राक्ष नवशक्ति संपन्न माँ दुर्गा का प्रतिनिधि है। इसे भैरव का स्वरूप भी माना जाता है। यह रुद्राक्ष दुर्गा माता के स्वामित्व में उनकी नवम शक्तियों को अपने में समाहित किए हुए हैं।

इस दिव्य रुद्राक्ष बीज को धारण करने से शक्ति का सानिंध्य व आशीर्वाद पहनने वाले को प्राप्त होती है। ऎसे व्यक्ति में वीरता, साहस, शक्ति व सहनशीलता की वृद्धि होती है। 9 मुखी रुद्राक्ष को नवग्रहों, नवनाथों व नवधा भक्ति से भरपूर माना गया है। नवममुखी रुद्राक्ष शक्ति अनेक प्रकार की साधनाओं में सफलता के लिए उत्तम माना गया है। इसका उपयोग करने से हिम्मत व सहनशीलता में वृद्धि होती है ।

धारण नियम- किसी भी माह की शुक्ल पक्ष त्रयोदशी से पूर्णमासी तक लगातार 3 दिन तक केसर, बेलपत्र, गंगाजल, आदि से निम्न वैदिक मन्त्र- ''ऊँ ऐं हीं श्रीं क्लीं चामुण्डादैत्यै नमः''  से 9 मुखी रुद्राक्ष को जलाभिषेक करना चाहिए। फिर इसी वैदिक मन्त्र को पढ़ते हुये चमेली का तेल रूद्राक्ष में लगाना चाहिए। तत्पश्चात् प्रार्थना करने के बाद मन्त्र -''ऊँ ऐं हीं श्रीं क्लीं चामुण्डा देत्यै नमः'' से कम से कम नौ बार हवन और अधिक से अधिक 108 बार जाप करना चाहिए । तत्पश्चात् अग्नि की 9 बार परिक्रमा करके नवम मुखी रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।             

1-      इस रुद्राक्ष के पहनने से मंगल का वातावरण एवं परिवार में आनन्द बना रहता है।

2-      विपत्ति, रोग, दीनता, आदि अनेक प्रकार की समस्याओं को इस रुद्राक्ष धारण करके दूर किया जा सकता है।

3-      जो लोग नौकरी पाने के लिए अत्यधिक श्रम करते है, उसके बावजूद भी उनकी पदोन्नति होते-होते रुक जाती है। ऐसे लोगों को 9 मुखी रुद्राक्ष पहनने से उनके नौकरी व करियर में पदोन्नति होने की भाग्य अवसर बढ़ जाती है।

4-      छात्र जो कठिन परिश्रम करने के बाद भी सफल नहीं हो पाते है। ऐसे छात्र नवममुखी रुद्राक्ष धारण करके सफलता प्राप्त कर सकते है।

5-      क्रोधी,तुनक  मिजाज और चिड़चिड़े स्वभाव वाली महिलाओं को नवममुखी रुद्राक्ष पहनने से मन शान्त और स्थिर रहता है।

6-       जो बच्चे स्वभाव से शरारती, गुस्सैल,  जिद्दी,  आदि है। उन्हें 9 मुखी रुद्राक्ष पहनाने से सकारात्मक परिणाम सामने आते है।

7-       केतु ग्रह से सम्बन्धित दोषों का शमन करने के लिए नवम मुखी रुद्राक्ष धारण करना अत्यन्त उत्तम और लाभकारी सिद्ध होता है।

स्वाथ्य लाभ

नौ मुखी रुद्राक्ष को धारण करने या उपयोग में लाने से फेफड़ों से संबंधित समस्याओं, आँखों में दर्द ,त्वचा रोग ,शरीर में दर्द इत्यादि से मुक्ति मिलती है। शरीर तनावमुक्त भी रहता है।

लैब सर्टिफाइड नेपाली रुद्राक्ष की प्राप्ति हेतु आप एस्ट्रोदेवम डॉट कॉम  (AstroDevam.com) से संपर्क कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए आप हमारे अनुभवी ज्योतिषी श्रीमती अनिता बरनवालआचार्य कल्कि कृष्णन से संपर्क करें । एस्ट्रोदेवम् डॉट कॉम (AstroDevam.com) एकमात्र ऐसी वेबसाइट हैं, जो ज्योतिषियों द्वारा सन्चालित हैं, न कि धन के भूखे व्यवसायियों द्वारा।

 

 
This entry was posted in Products On .

Comments

    There are no comments under this post.

Leave A reply