किस शिवलिंग के अभिषेक से मिलता है कौन सा फल ( Lord Siva Abhishekam - Secrets and Results)

जानिए किस शिवलिंग का अभिषेक करने से मिलता है कौन सा शुभ फल – वैसे तो भोलेनाथ शिवजी का अभिषेक हमेशा करना चाहिए, लेकिन सावन का महीना शिव पूजन के लिए खास माना गया है। सावन का महीना भगवान शिव का विशेष रूप से प्रिय माना जाता है। कई धार्मिक ग्रंथों में भी इस बात का वर्णन मिलता है। शिवजी का अभिषेक करने पर उनकी कृपा हमेशा बनी रहती है और मनोकामना पूरी होती है। धर्मसिन्धू के दूसरे परिच्छेद के अनुसार, अगर किसी खास वरदान की इच्छा हो तो शिव जी के विशेष शिवलिंग की उपासना करनी चाहिए।

Read More

This entry was posted in Services On .

केतु के बुरे असर से बचाते हैं ये आसान उपाय (Remedies to control the bad effects of Planet Ketu)

राहु-केतु ग्रहों को छाया ग्रहों के नाम से जाना जाता है। ज्योतिष की दुनिया में राहु-केतु ग्रहों को पापी ग्रह भी बोला जाता है। इन दोनों ग्रहों का अपना कोई अस्तित्व नहीं होता, इसीलिए ये जिस ग्रह के साथ बैठते हैं उसी से मिलता हुआ अपना प्रभाव देने लगते हैं। कुछ ही मौके ऐसे होते हैं जब जन्म कुंडली में इनका प्रभाव शुभ फल देता है। राहु और केतुग्रह अगर जातक की कुंडली में दशा-महादशा में हों तो यह जातक को काफी परेशान करने का कार्य करते हैं।

Read More

This entry was posted in Services On .

कर्कोटक कालसर्प दोष – Karkotak Kaalsarp Dosh

राहु केतु की आकृति सर्प के रूप में मानी गयी हैI कालसर्प दोष के निर्माण में इन दोनों ग्रहों की भूमिका काफी जरूरी होती हैI कर्कोटक कालसर्प दोष (Karkotak Kaalsarp Dosh), कालसर्प दोष का आठवां प्रकार हैI कर्कोटक नाग का नाम भी कई धार्मिक कथाओं एवं पुस्तकों में स्थानों पर आया हैI  नल-दमयंती की कथा एवं जनमेजय के नाग यज्ञ के संदर्भ में भी कर्कोटक कालसर्प का जिक्र मिलता हैI कर्कोटक कालसर्प भी तक्षक कालसर्प के समान बहुत ही कष्टदायक माना जाता हैI

Read More

This entry was posted in Services On .

Different Forms of Havan Kund

Yajna Kunds are basically reservoirs of energy or energy centers where all the divinity is invited and invoked. The shape of Havan kund is widely experienced to generate and store a special energy field, which possess bacteriostatic properties. The unique shape of the Agni Kunda (also called Havan Kunda) allows controlled generation and multi directional dissipation of energy. It acts as a generator of unusual energy fields and spreads them in its surrounding atmosphere

Read More

This entry was posted in Services On .

Various Havan samagri or Havishya used in Yajna/ Yagya

Yagya (Yajna, Yagna or Anushthan) is actually a ritual, performed to attain a number of desires. Yajna is often also called as ‘Havana or Homa’. In order to get an idea of the various chemical changes which take place, it is essential to know the materials offered in Yagya. The divine Agni (the sacrificial fire) 

Read More

This entry was posted in Services On .